Uncategorized

Ram Mandir Ayodhya : कांग्रेस के दिग्गज नेता मणि शंकर अय्यर की बेटी ने राम मंदिर के विरोध में रखा था 3 दिन का व्रत, अब सोसाइटी के लोग बोले माफी मांगे या…

अयोध्या में 22 जनवरी को राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा हूई। इस मामले पर तब भी जमकर राजनीति हूई और आज भी हो रही है। कांग्रेस ने इस कार्यक्रम का न्योता सम्मान पूर्वक ठुकरा दिया था। कांग्रेस के दिग्गज नेता मणि शंकर अय्यर की बेटी सुरन्या अय्यर ने राम मंदिर के खिलाफ सोशल मीडिया पर ना सिर्फ जमकर हंगामा किया बल्कि विरोध में तीन दिनों का व्रत भी रखा था। जंगपुरा के जीस सोसाइटी में वह रहती है वहां के वेलफेयर एसोसिएशन ने 27 जनवरी को उन्हें नोटिस जारी किया है।

नोटिस में आरडब्ल्यूए ने न केवल सूरन्या से माफी मांगने के लिए कहा है बल्कि मणी शंकर अय्यर से अपनी बेटी के कृत्य की निंदा करने का भी आग्रह किया है। इसके अलावा, आरडब्ल्यूए ने सुरन्या से आग्रह किया है कि अगर उन्हें लगता है कि उन्होंने जो किया वह सही है तो वह कॉलोनी से बाहर चली जाए।

See also  Mahabharata Dronacharya : महाभारत में द्रोणाचार्य का रोल मिलने पर भड़क उठे थे एक्टर, बाद में आंखों से निकले आंसू

इस चिट्ठी को भारतीय जनता पार्टी के नेता अमित खड़खड़ी ने सोशल मीडिया पर साझा किया है। इस चिट्ठी पर आरडब्ल्यूए अध्यक्ष डॉ. कपिल कक्कड़ के सिग्नेचर भी है। आरडब्ल्यूए ने कहा कि कॉलोनी के सभी निवासियों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध सुनिश्चित करना संगठन की जिम्मेदारी है। इसमें लिखा है, ”सुरन्या अय्यर ने सोशल मीडिया के माध्यम से जो कहा वह निश्चित रूप से एक शिक्षित व्यक्ति के लिए अशोभनीय था। राम मंदिर 500 साल बाद बनाया जा रहा है और यह सुप्रीम कोर्ट के 5 – 0 के फैसले के बाद बनाया जा रहा है।

Ram Mandir Ayodhya
कांग्रेस के दिग्गज नेता मणि शंकर अय्यर की बेटी ने राम मंदिर के विरोध में रखा था 3 दिन का व्रत

समिति के एक्शन पर सुरन्या फेसबुक पर अपना बयान जारी किया है। और कहा, ‘यह बयान मेरे उपवास के बारे में एक टेलीविजन कहानी के संबंध में है। सबसे पहले संबंधित RWA जीस कॉलोनी से है, वहां मैं रहती ही नहीं हूं। दूसरा, मैंने फिलहाल पत्रकारों से बात न करने का निर्णय लिया है। क्योंकि अभी भारत में मीडिया केवल जहर और भ्रम फैला रहा है।

See also  Ramayan Released in 1987 : क्या आपको पता है कि 1987 में आई रामायण के कलाकारों में किसको हुआ था नफा और किसको हुआ था नुकसान

आप सब मुझे जानते हैं। मैंने भारत में अब तक अपनी सारी जिंदगी के दौरान सभी राजनीतिक दृष्टिकोण के लोगों के साथ बड़ी हुई हूं, पढ़ी हूं, काम किया है और एक्टिविज्म किया है। फिलहाल मैं अपनी बातें अपने फेसबुक और यूट्यूब पेज पर ही छोडूंगी ताकि आप स्वयं शांति से इसके बारे में सोच सके। मैं मीडिया सर्कस से बचने की कोशिश कर रही हूं, क्योंकि मेरा मानना है कि भारत में हमें एक बेहतर प्रकार के सार्वजनिक संवाद की आवश्यकता है। हम गाली- गलौज के बजाय कुछ सोचने का प्रयास करें जय हिंद।’

जब अयोध्या में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा हो रही थी, तब मणि शंकर अय्यर की बेटी सूरन्या ने तीन दिन का व्रत रखा था। इसके कारण से समिति के लोग काफी नाराज दिख रहे थे। सुरन्या ने कहा था कि उन्होंने अपने मुस्लिम भाइयों के लिए अनशन किया था। इसके बाद से ही समिति के लोग उनके एक्शन की मांग कर रहे थे।