भारत की खबरें

पुलिसवाले ने एक आईएएस को नहीं पहचाना, पहचान बताने पर भी अपनी हरकतों से बाज नहीं फिर जब डीएम ने लिया एक्शन, तो… 

Barabanki News new ias and police video : उत्तर प्रदेश के बाराबंकी से एक काफी अजीबोगरीब मामला सामने आ रहा है. मालूम हो कि पुलिस ने यहां चेकिंग के दौरान किसी और की नहीं बल्कि एक महिला आईएएस (IAS) अफसर की ही गाड़ी रोकवा ली. फिर उसके बाद अफसर के पहचान बताने के बाद भी पुलिसवालों ने अफसर की बात नहीं सुनते हुए उनकी गाड़ी से नीली बत्ती तक उतरवा दी. इतने से भी जब मन नहीं भरा तो इस पूरे कृत्य का वीडियो बनाकर वायरल भी कर दिया. लेकिन फिर जैसे ही मामला बाराबंकी कलेक्टर के संज्ञान में आया तो उन्होंने इस पर सख्त एक्शन लेते हुए गलती में सुधार किया.

See also  ट्रेनी आईएएस पूजा खेडकर ने विवाद और आरोपों पर पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ते हुए जो कहा, सुनकर लोगों के होश उड़े... 

मालूम हो कि ये घटना बाराबंकी शहर की कही जा रही है. जहाँ आईएएस (IAS) मधुमिता सिंह बाराबंकी में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के रूप में कार्यरत हैं. बीते बुधवार को देर शाम जब मधुमिता ड्यूटी से वापस लौट रही थीं. तभी, बाराबंकी शहर के पटेल तिराहे पर पुलिसकर्मियों ने मधुमिता की गाड़ी रुकवाई. मिली जानकारी के अनुसार पुलिसकर्मियों के रोकने पर IAS मधुमिता सिंह ने अपना परिचय भी दिया. लेकिन बावजूद इसके पुलिसकर्मी नहीं माने और पुलिसवालों ने गाड़ी के ड्राइवर से नीली बत्ती उतरवा दी. इसके साथ ही इस पूरी घटना का वीडियो भी बना लिया.

मालूम हो कि सोशल मीडिया पर घटना का वीडियो बाद में जमकर वायरल हो गया. इसके बाद जब इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी डीएम सत्येंद्र कुमार को हुई तो उन्होंने एसपी दिनेश कुमार सिंह से कड़ी नाराजगी जताते हुए मामले में एक्शन लेने को कहा. जिसके बाद एसपी ने तत्काल IAS मधुमिता सिंह की गाड़ी से नीली बत्ती उतरवाने वाले उप निरीक्षक विशुन कुमार शर्मा और उप निरीक्षक मनोज कुमार सिंह पर कड़ी कार्रवाई का आदेश देते हुए दोनों को तत्काल लाइन हाजिर कर दिया.