बिजनेस

Byjus Crisis : Byju’s पर और गहराया संकट, होगा भविष्य का फैसला आज, ईजीएम में शामिल नहीं होगी बायजू रविंद्रन फैमिली

बायजू के कुछ शेयरधारकों ने विफलताओं को लेकर शुक्रवार को एक असाधारण आम बैठक ईजीएम बुलाई। इस बैठक में फाउंडर समेत अन्य अधिकारियों को हटाने के लिए प्रस्ताव पर वह वोटिंग हो रही है। एडुटेक प्लेटफार्म बायजू के संस्थापक एवं सीओ बायजू रविंद्रन और उनके परिवार के सदस्यों के लिए आज यानी शुक्रवार का दिन काफी महत्वपूर्ण है।

बायजू के कुछ शेयरधारकों ने इनकी विफलताओं के कारण एक ईजीएम बैठक बुलाई है इस बैठक में बायजू रविंद्रन सुमित टॉप मैनेजमेंट के अधिकारियों को हटाने के लिए प्रस्ताव लाया गया है। जिसकी वजह से मतदान भी होना संभव है। इसके जरिए रवींद्रन और उनके परिजनों को निदेशक मंडल से बाहर करने की योजना है।

See also  PM Kisan Samman Nidhi Yojana : चार दिन का इंतजार, 9 करोड़ किसानों को पैसे ट्रांसफर करेगी मोदी सरकार

बताया जा रहा है कि बायजू रविंद्रन या उनकी फैमिली के मेंबर्स इस बैठक में शामिल नहीं किए जाएंगे।शुक्रवार को होने वाली ईजीएम में मतदान होगा जिसका नतीजा 13 मार्च तक लागू नहीं किया जाएगा। उस दिन कर्नाटक उच्च न्यायालय कुछ निवेशकों के कदम को चुनौती देने वाली रवींद्रन की याचिका पर सुनवाई की जाएगी।

उच्च न्यायालय ने बुधवार को बायजू में 32% से अधिक हिस्सेदारी रखने वाले शेयरधारकों को बैठक में बुलाया। रवींद्रन और उनके परिवार की कंपनी में 26.3 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।
परिवार में रवींद्रन की पत्नी दिव्या गोकुलनाथ और उनके भाई रिजु रविंद्रन भी शामिल है।

See also  Anand Mahindra Gift : आनंद महिंद्रा ने लोगों का एक बार फिर से दिल जिता, सरफराज के पापा को दिया धांसू गिफ्ट

पिछले साल में बायजू को कई वित्तीय परेशानियों का सामना करना पड़ा। अपने ऑडिटर के इस्तीफा देने,लैंडर्स द्वारा कार्यवाही शुरू करने सहित अन्य चुनौतियों भी उनके सामने आई। इस प्रतिकूल हालात में बायजू का वैल्यूएशन भी 22 अरब डॉलर से घटकर हाल ही में आए ईश्यू के दौरान सिर्फ 20 करोड डालर रह गया।

आपको बता दे की बायजू की पैरंट कंपनी थिंक एंड लर्न प्राइवेट लिमिटेड है। इस बीच यह भी खबर आ रही है कि प्रवर्तन निदेशालय ने बायजू रविंद्रन के खिलाफ एक लुक आउट नोटिस भी जारी की है।इसके लिए केंद्रीय एजेंसी ने एक महीने की शुरुआत में इमीग्रेशन ब्यूरो से संपर्क किया और यह मांग की की रविंद्र देश छोड़कर ना जा सके।