फैक्ट्समनोरंजन

Chanakya Niti : जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति पति-पत्नी के रिश्ते के बारे में, करें यह काम नहीं आएगी रिश्तो में खटास

Chanakya Niti: चाणक्य के बारे में आज कौन नहीं जानता है. वह भारतीय इतिहास के सबसे महान दार्शनिक, सलाहकार और शिक्षक थे.आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति शास्त्र को लोगों तक पहुंचाना भी जरूरी समझा है. चाणक्य नीति में पति-पत्नी के रिश्ते को लेकर भी कई सारी बातें बताई गई है.अगर कोई चाणक्य नीतियों को अपनाता है तो वह निश्चित ही सफलता प्राप्त कर लेता है और आचार्य चाणक्य का कहना है कि पति-पत्नी एक दूसरे के पूरक होते हैं और अगर इनमें से कोई भी डगमगाता है तो परिवार बिखरने लगता है.

घर में सुख शांति तभी रहती है जब पति-पत्नी के रिश्ते मधुर होते हैं ऐसे में पति और पत्नी को इन कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं क्या है वो खास बातें।आचार्य चाणक्य के अनुसार पति-पत्नी को एक दूसरे का दोस्त बनकर रहना चाहिए और एक दूसरे की इज्जत भी करनी चाहिए. हमेशा एक दूसरे को मान सम्मान देना चाहिए और एक दूसरे की आवश्यकता को भी समझना चाहिए.

See also  OTT 5 Bold Webseries : ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ले इन बोल्ड वेब सीरीज का मजा वह भी अकेले में, देखते ही मच जाएगी दिल में खलबली

अगर पति-पत्नी को कोई भी काम पूरा करना हो तो एक दूसरे के साथ मिलकर ही करना चाहिए.अलग-अलग यह काम कभी भी नहीं हो सकते हैं और कभी भी दोनों को एक दूसरे के प्रति अहंकार नहीं दिखना चाहिए. हमेशा पति-पत्नी को अपनी शादीशुदा जीवन में धैर्य बनाकर भी रखना चाहिए चाहे जैसे भी हालत आ जाए एक दूसरे का साथ नहीं छोड़ना चाहिए। विपरीत परिस्थितियों में संयम न खोने वाले पति-पत्नी ही अपने जीवन को आगे बढ़ा पाते हैं।

आचार्य चाणक्य का कहना है कि पति और पत्नी के बीच कुछ बातें राज भी रहनी चाहिए. दोनों के बीच होने वाली बातों को अपने ताकि सीमित रखनी चाहिए. दोनों को ही इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनकी निजी बातें किसी तीसरे व्यक्ति तक न पहुंचे,अन्यथा पति-पत्नी के रिश्ते में दरार आ सकती है।