क्रिकेटमनोरंजन

Mohammed Shami : IPL से पहले फैंस को लगा झटका, दिग्गज मोहम्मद शमी पूरे सीजन से हुए बाहर

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी बाएं टखने की चोट के कारण अगले महीने होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग से बाहर हो गए हैं। इसके लिए वह यूके में सर्जरी कराएंगे। एक रिपोर्ट के अनुसार , 33 साल के मोहम्मद शमी जो इंग्लैंड के खिलाफ चल रही टेस्ट श्रृंखला का अब हिस्सा नहीं है। उन्होंने आखिरी बार नवंबर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे विश्व कप फाइनल में भारत के लिए खेला था। मोहम्मद शमी जनवरी के आखिरी सप्ताह में टखने का विशेष इंजेक्शन लेने के लिए लंदन गए थे और उन्हें कहा गया था कि 3 सप्ताह के अंदर, वह हल्की दौर शुरू कर सकते हैं और उसके बाद में इसे ले सकते हैं।

See also  IPL 2024: सीएसके बनाम आरसीबी के लिए चेपॉक की यात्रा? यहां वह है जो आपको जानना आवश्यक है

बीसीसीआई के वरिष्ठ व्यक्ति ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “इंजेक्शन काम नहीं कर रहा है और एक अब एकमात्र विकल्प सर्जरी है। वह जल्द ही सर्जरी के लिए यूके रवाना होंगे। ऐसे में आईपीएल खेलने का सवाल ही नहीं उठता।” मोहम्मद शमी 24 विकेट लेकर भारत के शानदार विश्व कप अभियान के नायक में से एक थे। दर्द होने के बावजूद खेले मोहम्मद शमी क्योंकि उन्हें अपनी लैंडिंग में समस्या हो रही थी लेकिन उन्होंने इसका असर अपने प्रदर्शन पर नहीं होने दिया। हाल ही में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किए गए मोहम्मद शमी ने अपने एक दशक लंबे करियर में 229 टेस्ट, 195 वनडे और 24 टी-20 विकेट लिए हैं।

See also  Ananya Pandey का OOPS मूवमेंट हुआ कैमरे में कैप्चर, खिसकती जींस पैंट संभालती आईं नजर

यह घटनाक्रम मोहम्मद शमी के लिए राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी द्वारा नियोजित चोट रिहैब प्रबंधन कार्यक्रम पर सवाललिया निशान खड़ा करता है। अब इसकी बहुत कम संभावना है कि तेज गेंदबाज बांग्लादेश और न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू मैदान पर भारत के टेस्ट मैचो से पहले वापसी कर पाएंगे। उनका लक्ष्य ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मार्की अवे सीरीज हो सकती है। मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि एनसीए की रूढ़िवादी सोच मोहम्मद शमी के मामले में काम नहीं आई है।

“मोहम्मद शमी को सीधे सर्जरी के लिए जाना चाहिए था और यह एनसीए का फैसला होना चाहिए था। सिर्फ 2 महीने के आराम और इंजेक्शन से अच्छा काम नहीं होता और वही हुआ है। वह एक संपत्ति है और भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में उनकी आवश्यकता होगी।”