Uncategorized

Ram Mandir Ayodhya : रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर भक्तों को रामलला का प्रसाद बांट रहे, कहा- फर्क नहीं पड़ता कि न्योता नहीं मिला

‘रामायण’ के निर्माता रामानंद सागर के बेटे और डायरेक्टर प्रेम सागर बहुत ही खुश है। क्योंकि सभी ने अयोध्या में रामलला की मूर्ति का स्वागत किया। भले ही उन्हें प्राण प्रतिष्ठा समारोह में न्योता नहीं दिया गया था, फिर भी वह पॉजिटिविटी से भरे हुए हैं और इस पर उन्होंने खुलकर अपनी बात कही है।

यहां तक कि वह अपने सभी भक्तों को प्रसाद भी बांट रहे हैं। प्रेम सागर को भले ही अयोध्या में रामलला की मूर्ति के प्राण प्रतिष्ठा के लिए न्योता नहीं दिया गया हो, लेकिन वह इस बात से सौभाग्यशाली महसूस करते हैं कि भगवान ने उन्हें सभी श्रद्धालुओं को प्रसाद बांटने का कर्तव्य सौंपा है।

See also  Ramlala jewelery : हीरा, पन्ना, मोती से लेकर यह सारे बेशकीमती गहने धारण किए हैं रामलला ने, देखिए इनका शाही अंदाज

एक सुरक्षा कर्मी को रामलला का प्रसाद लेने से पहले प्रेम सागर का आशीर्वाद लेते देखा गया। प्रेम सागर ने कहा, यही बात है। हम धन्य है और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मुझे न्योता नहीं मिला, लेकिन हमारे लक्ष्मण सुनील लहरी साधन बने और मैं केवल इसे आगे बढ़ा रहा हूं और सैकड़ों राम भक्तों को प्रसाद भेज रहा हूं, जिन्होंने अयोध्या में जाने का मौका गवा दिया।

Ram Mandir Ayodhya
रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर भक्तों को रामलला का प्रसाद बांट रहे

प्रेम सागर ने कहा, ‘सुनील लहरी ने अपनी बिल्डिंग के सभी 75 घरों में प्रसाद बांटा है। और आप जानते हैं कि उनका कूरियर वाला उनसे कूरियर के पैसे भी नहीं लेना चाहता था और काफी भावुक हो गया था। इससे यही पता चलता है कि सुनील लहरी के कोशिशें की कितनी सराहना की गई है। जो लोग अयोध्या नहीं पहुंच सके, उन्हें प्रसाद का एक दाना भी मिला, वह रामलला का आशीर्वाद महसूस कर रहे हैं।’

See also  Ramayan Sita B grade movies : जाने क्यों करनी पड़ी थी रामायण की सीता को बी ग्रेड फिल्में भोजपुरी समेत 8 भाषाओं में की फिल्में

प्रेम सागर ने कहा, भक्ति आपकी आत्मा के भीतर है। अगर मेरे भाग्य में सुनील लहरी है जो प्राण प्रतिष्ठा के दिन मेरे लिए पहला प्रसाद लाए थे तो यह मेरा कर्तव्य बन जाता है कि मैं इसे अधिक से अधिक लोगों को बांट सकूं।