Uncategorized

Uttarakhand News : उत्तराखंड वक्फ बोर्ड का ऐलान- हम अपने मदरसों में राम को पढ़ाएंगे, बाप को ही कैद करने वाले औरंगजेब को नहीं…

उत्तराखंड वक्फ बोर्ड इन दिनों चर्चा में है। मदरसा को आधुनिक बनाने के लिए एनसीईआरटी सिलेबस लागू करने की घोषणा के बाद अब वक्फ बोर्ड ने एक और बड़ा ऐलान कर दिया है। उत्तराखंड वक्फ बोर्ड ने मदरसों में भगवान राम के जीवन और उनके मूल्यों के बारे में पढ़ाने का निर्णय लिया है। बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने इसका कारण भी बताया है और कहां की मदरसों में भगवान राम को ही पढ़ाया जाएगा औरंगजेब को नहीं।

शादाब शम्स ने बताया कि यह बदलाव शुरुआत में चार मदरसों से किया जाएगा। नया सिलेबस इस साल मार्च से 4 मदरसो से शुरू किया जाएगा। और बाद में इसे 117 में लागू किया जाएगा। अभी जिन मदरसो में नया सिलेबस लागू किया जाएगा वह हरिद्वार, देहरादून, उधम सिंह नगर और नैनीताल में है। एक रिपोर्ट के अनुसार, शादाब शम्स ने बताया, ‘जिस तरह पूरा देश अयोध्या में श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा का उत्सव मना रहा है, हमने सोचा कि चार आधुनिक मदरसों में भगवान राम के बारे में पढ़ाया जाएगा। अल्लामा इकबल ने भी भगवान राम को ‘इमाम ए हिंद’ कहा था। भारतीय मुसलमान को भगवान राम का अनुसरण करना चाहिए क्योंकि हम अरब नहीं है। हम परिवर्तित मुस्लिम है, जिन्होंने अपनी पूजा पद्धति बदली, लेकिन हम अपने पूर्वज नहीं बदल सकते।’

See also  Ram Mandir : बहुत रोई पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, कहा- अयोध्या में मेरे साथ जो हुआ, कभी नहीं भूल सकती….

मदरसों में भगवान राम की आदर्श की शिक्षा देने के प्लान को समझाते हुए उन्होंने बताया, ‘श्री राम सबके हैं। कौन राम जैसा बेटा नहीं चाहता है जिन्होंने अपने पिता का वादा पूरा करने के लिए सब कुछ त्याग दिया। कौन लक्ष्मण जैसा भाई या सीता जैसी पत्नी नहीं चाहता। एक तरफ हमारे सामने ऐसे चरित्र है और दूसरी तरफ औरंगजेब जैसे, जिसने अपने भाई की हत्या कर दी और आप को जेल में डाल दिया। हम किसी कीमत पर औरंगजेब के बारे में नहीं पढ़ाएंगे, श्री राम और मोहम्मद साहब की शिक्षा देंगे।’

चार आधुनिक मदरसों को लेकर शादाब शम्स ने बताया कि इनमें सुबह 8:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक विद्यालय की तरह पढ़ाई होगी। उन्होंने कहा इनमें पांच समय की नमाज होगी। सुबह 6:30 पर नमाज के बाद 1 घंटे कुरान की पढ़ाई होगी। सुबह 8:00 बजे से 2:00 बजे तक मदरसे में स्कूल की तरह पढ़ाई होगी। उस समय स्कूल में यूनिफॉर्म पहनना जरूरी होगा।