ताज़ा खबरेंधार्मिकभारत की खबरें

Kedarnath Dham: 10 मई को खुलेंगे बाबा केदार के कपाट, महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर घोषित हुई तिथि

Kedarnath Dham: केदारनाथ के रावल भीमाशंकर के मार्गदर्शन में केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि घोषित की गई। बताया जा रहा है कि अब 10 मई को बाबा केदारनाथ के कपाट खुलेंगे। यह कपट सुबह 7:00 से भक्तों के लिए खोल दिए जाएंगे।

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर शुक्रवार को पंच केदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर में केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि पंचांग गणना से तय कर घोषित की गई। यहां घोषणा की गई कि अब 10 में को बाबा केदारनाथ के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। सभी श्रद्धालु सुबह 7:00 से बाबा के दर्शन कर पाएंगे। बाबा केदार के कपाट खुलने की तिथि तय होने के साथ ही बाबा केदार की पंचमुखी भोगमूर्ति के चल उत्सव विग्रह डोली में विराजमान होकर शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर से अपने धाम के लिए प्रस्थान का दिन भी तय किया गया है।

See also  महाराष्ट्र में 10 मिनट में आए 4.5, 3.6 तीव्रता के दो भूकंप

बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डां. हरीश चंद्र गौड़ ने बताया, आठ मार्च को महाशिवरात्रि पर्व पर ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में सुबह नौ बजे से धार्मिक अनुष्ठान शुरू हुए।बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष राजेंद्र अजय की मौजूदगी में केदारनाथ के रावल भीमाशंकर के मार्गदर्शन में केदारनाथ धाम के कपाट खोलने की तिथि घोषित की गई है।

आपको बता दे की पिछले कई दिनों से बर्फबारी के कारण केदारनाथ पैदल मार्ग में भी काफी बर्फ जमा हो गई है। पैदल मार्ग पर इस बार जंगलचट्टी से ही तीन फीट से अधिक बर्फ जमी है। भीमबली, रामबाड़ा, छोटी लिनचोली, बड़ी लिनचोली, छानी कैंप तक पांच से सात फीट तक बर्फ जमी है। रुद्रा प्वाइंट से केदारनाथ तक पांच किमी क्षेत्र में भी पांच से आठ फीट तक बर्फ जमी है।

See also  Maha Shivratri 2024 : जाने महाशिवरात्रि के पीछे की पौराणिक कथा, आखिर क्यों मनाया जाता है यह त्योहार?

शीतकाल में केदारनाथ की सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस और आईटीबीपी के जवान पानी से जुड़ी जरूरतों को बर्फ पिघलाकर पूरा कर रहे हैं। धाम में पेयजल लाइन भी जम रखी है। इधर, लोनिवि, गुप्तकाशी डिवीजन ने 50 मजदूरों के साथ पैदल मार्ग पर रामबाड़ा से बर्फ सफाई का काम शुरू कर दिया है।