बिजनेसभारत की खबरें

Business Idea : जानिए कैसे कर सकते हैं बांस की खेती, 50% तक मिल रही है सब्सिडी, कमाई होगी मोटी रकम

बांस की खेती के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि इस बंजर जमीन पर भी उगाया जा सकता है। साथ ही इसे पानी की भी ज्यादा आवश्यकता नहीं होती है और इसे एक बार लगाने के बाद 50 साल तक इसका उत्पादन किया जा सकता है। भारत के लोग तेजी से इस खेती की ओर बढ़ रहे हैं।

खेती कमाई का अच्छा विकल्प है। आज हम आपके यहां एक शानदार आईडिया बताने जा रहे हैं जिससे आप बांस की मांग में हो रही लगातार वृद्धि को कम कर पाएंगे यही कारण है कि सरकार अब इसके उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रोत्साहित कर रही है।

ऐसे में कई राज्य सरकार अपने किसानों को बांस की खेती करने पर सब्सिडी भी उपलब्ध करा रही है। इसलिए अगर आप भी चाहते हैं कि अच्छी कमाई हो तो बांस की खेती एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकती है। बांस की खेती के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि इस बंजर जमीन पर भी उगाया जा सकता है।

See also  ये है सिनेमा का अब तक का सबसे महंगा रावण, बॉलीवुड को गच्चा देकर बाजी मार ले गया साउथ का सुपरस्टार

साथ ही इसे सिंचाई की ज्यादा जरूरत नहीं होती है। एक बार इसे लगाने के बाद आप इसे 50 साल तक उत्पादन कर सकते हैं और इसमें ज्यादा मेहनत भी नहीं है। बांस की खेती कहीं भी की जा सकती है।भारत का पूर्वी भाग आज बस का सबसे बड़ा उत्पादक केंद्र है। एक हेक्टेयर जमीन पर बांस के 1500 पौधे लगाए जा सकते हैं.

इसकी पैदावार अच्छी हो इसके लिए एक पौधे को दूसरे पौधे से ढाई मीटर की दूरी पर लगाया जाता है और उनके लाइन से लाइन की दूरी 3 मी रखी जाती है। बांस की बेहतर उत्पादन के लिए उन्नत किस्म का चयन किया जाता है। बांस की सबसे ज्यादा लोकप्रिय प्रजातियां बम्बूसा ऑरनदिनेसी, बम्बूसा पॉलीमोरफा, किमोनोबेम्बूसा फलकेटा, डेंड्रोकैलेमस स्ट्रीक्स, डेंड्रोकैलेमस हैमिलटन और मेलोकाना बेक्किफेरा को माना जाता हैं.

See also  देसी जुगाड़ से बनी चारा काटने की मशीन, लोगों ने कहा,"यह टैलेंट नहीं जाना चाहिए इंडिया से बाहर"

आपको बता दे की राष्ट्रीय बांस मिशन यानी नेशनल बंबू विश्व के तहत अगर बस की खेती से में ज्यादा खर्च हो रहा है तो सरकार इस पर किसानों को आर्थिक सहायता भी दे रही है। इस पर किसानों को 50% तक की सब्सिडी भी मिल रही है।

सरकार से सहायता प्राप्त करने के लिए आप राष्‍ट्रीय बांस मिशन की आधिकारिक वेबसाइट nbm.nic.in पर जाकर सब्सिडी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. इसके साथ ही राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत हर जिले में नोडल अधिकारी बनाया गया है. आप अपने नोडल अधिकारी से भी योजना से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

See also  IND vs ENG : जो रूट के शतक जड़ने पर साथी खिलाड़ी ने दिया यह बयान, कहा तारीफ काबिल है वह

आपको बता दे की बस की पहली कटाई उसे रोकने के 4 साल बाद होती है। एक हेक्टेयर जमीन में 4 साल में बांस की खेती से लगभग 40 लाख रुपए कमाए जा सकते है इसके अलावा बांस की लाइनों के बीच खाली पड़ी जमीन पर अन्‍य फसलें लगाकर भी किसान एक्स्ट्रा कमाई कर सकते हैं और खेती में लगने वाला खर्च भी निकाल सकते हैं.