भारत की खबरेंविडियोज़

कीर्ति चक्र विजेता शहीद कैप्‍टन अंशुमन सिंह की पत्‍नी का ये VIDEO देखकर पत्थर दिल भी रो पड़ेगा… 

Caption Anshuman Singh : अभी तो हसीं सफर की शुरुआत ही की थी कैप्‍टन अंशुमन और स्‍मृति ने. मालूम हो कि पिछले साल फरवरी में ही दोनों की शादी हुई थी. दोनों की मुलाकात आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज (AFMC) से ग्रेजुएशन के दौरान हुई थी. गौरतलब हो कि अंशुमन और स्‍मृति की शादी के महज दो महीने बाद ही अंशुमन की पोस्टिंग सियाचिन में हो गई थी. जहां अपने साथियों की रक्षा करते-करते कैप्टन अंशुमन सिंह वीरगति को प्राप्‍त कर गए. मालूम हो कि बीते शुक्रवार को राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सियाचिन में देश की रक्षा के दौरान जान गंवाने वाले कैप्‍टन अंशुमन सिंह की पत्‍नी स्‍मृति सिंह और मां को कीर्ति चक्र प्रदान किया. वायरल वीडियो

See also  Ajab - Gajab News : लोगों ने चमत्कार समझकर सांप को पिलाया दूध, सपेरो को भी समझ में नहीं आया यह मामला, फिर रेस्क्यू टीम ने खोला राज

मालूम हो कि राष्‍ट्रपति के साथ कीर्ति चक्र लेते हुए जैसे ही अंशुमन की मां और पत्‍नी स्मृति की तस्‍वीर जैसे ही सोशल मीडिया पर सामने आई, वैसे ही सोशल मीडिया पर तस्वीर तुरंत ही वायरल हो गई. गौरतलब हो कि अंशुमन और उनकी वाइफ स्‍मृति की लव स्‍टोरी काफी दिलचस्‍प है. बकौल स्‍मृति उनकी शादी लव एट फर्स्‍ट साइट थी. एक दूसरे को पहली नजर में देखते ही दोनों पसंद करने लगे थे. मालूम हो कि अपने पति कैप्‍टन अंशुमन सिंह के बारे में बताते हुए स्मृति सिंह कहती हैं कि वो बहुत काबिल थे अक्सर उनसे कहते थे कि तुम अपने सीने में पीतल लेकर मरोगी. आगे स्मृति अपनी प्रेम कहानी को याद करते हुए बताती है कि, उनदोनों ने एक ही कॉलेज से इंजीनियरिंग की थी और दोनों अपने कॉलेज के पहले ही दिन एक दूसरे से मिले और उन्हें पहली ही नजर में एक दूसरे से प्यार हो गया था. वायरल वीडियो

See also  हार्दिक पंड्या की आंखे हुई नम विराट कोहली और रोहित शर्मा के संन्यास की खबर सुनकर कहा- आप दोनों को मिस करेंगे, लेकिन...

लेकिन एक महीने के बाद, ही अंशुमन का चयन आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज (AFMC) में हो गया. आगे स्मृति बताती है कि अंशुमन काफी इंटेलिजेंट थे दोनों करीबन आठ साल तक लॉन्‍ग डिस्‍टेंस रिलेशनशिप में रहे और फिर उसके बाद दोनों ने शादी की, लेकिन ‘दुर्भाग्यवश, शादी के दो महीने के अंदर ही अंशुमन की पोस्टिंग सियाचिन में हो गई. मालूम हो कि अंशुमन के शहीद होने के ठीक एक दिन पहले ही यानी कि 18 जुलाई को दोनों ने अपने भविष्य के सुनहरे सपने बुने लेकिन आज जब उनके हाथ में कीर्ति चक्र है, तो उन्हें एहसास हो रहा है कि अंशुमन ने अपने जीवन का मोह छोड़ दिया ताकि तीन अन्य परिवार सुखी रह सके. वायरल वीडियो